बड़ी खबर: बछवाड़ा विधानसभा के विधायक रामदेव राय का पटना में निधन

0
467

बछवाड़ा विधानसभा के विधायक, पूर्व मंत्री, पूर्व सांसद रामदेव राय का पटना में निधन

तेघड़ा/बेगुसराय(अनंत कुमार):- बछवाड़ा विधान सभा के कांग्रेस पार्टी के विधायक रामदेव राय का निधन हो गया है। कई दिनों से बीमार चल रहे कांग्रेस एम0एल0ए0 का इलाज राजधानी पटना के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में चल रहा था । जहां उन्होंने शनिवार की सुबह आखिरी सांस ली। विधायक के निधन के बाद पार्टी नेताओं ने शोक व्यक्त किया है। राजनीतिक गलियारे में शोक की लहर है। बछवाड़ा विधानसभा के विधायक रामदेव राय की तबीयत खराब थी। मिली जानकारी के अनुसार विधायक रामदेव राय पिछले कई महीनों से लागातार गंभीर रूप से बीमार चल रहे थे। बीते सोमवार की रात में अचानक उनकी स्थिति बिगड़ने के कारण उन्हें पटना के एक निजी अस्पताल के आई0सी0यू0 में भर्ती कराया गया था।

विधायक की हालत लगातार नाजुक बनी हुई थी। डॉक्टरों की देख-रेख में उनका इलाज चल रहा था। इसकी जानकारी देते हुए विधायक रामदेव राय के पुत्र सह युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचि शिवप्रसाद गरीब दास ने बताया था कि स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। शनिवार को सुबह में विधायक के पीआरओ ने इस बात कि जानकारी दी कि विधायक रामदेव राय का निधन हो गया है।

बता दें कि रामदेव राय 13 वर्ष की उम्र से ही छात्र नेता के रूप में सामाजिक कार्य शुरू कर दिया था। वहीं 29 साल के उम्र में वर्ष 1972 में पहली वार बछवाड़ा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे थे। 1973 में उन्हें मंत्री बनाया गया था। जनता के बीच लोकप्रियता के कारण वह बछवाड़ा विधानसभा में दूसरी बार भी 1977 में चुनाव जीते। वहीं वर्ष 1980 में जब चुनाव हुआ तो उन्होंने बछवाड़ा विधानसभा से लगातार तीसरी बार चुनाव जीत कर मिसाल कायम की और उन्हें दोबारा मंत्री पद दिया गया। वर्ष 1984 में लोकसभा चुनाव में समस्तीपुर से बिहार के जनप्रिय नेता पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरे और भारी मतों से विजय प्राप्त कर लोकसभा पहुंचे।

विधानसभा चुनाव 2005 फरवरी में कांग्रेस पार्टी द्वारा टिकट नहीं मिलने पर बछवाड़ा विधानसभा से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में इन्होंने जीत हासिल की। साल 2005 के नवंबर में मध्यावधि चुनाव में पुन: कांग्रेस पार्टी के टिकट पर चुनाव जीत कर बिहार विधानसभा पहुंचे। उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में 6 बार विधानसभा और एक बार लोकसभा का नेतृत्व किया। वहीं उम्र दराज होने के बावजूद भी कांग्रेस पार्टी ने इनकी नेतृत्व क्षमता के कारण सातवीं बार भरोसा कर वर्ष 2015 में बछवाड़ा विधानसभा से महागठबंधन के कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार के रूप में टिकट दिया और छठी बार भी उन्होंने बछवाड़ा विधानसभा से चुनाव जीते और अभी वर्तमान में विधायक हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here